साइबर स्वच्छता केंद्र/Cyber Swachhta Kendra website Launched in New Delhi

ऐसे समय में जब साइबर अटैक्स दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं. सरकार की कम्प्यूटर इमरजेंसी रिस्पॉन्स टीम (CERT-in) ने मंगलवार को साइबर स्वच्छता केंद्र को लॉन्च किया है. भारत में साइबर स्पेस को सुरक्षित बनाने के उद्देश्य से ये डेस्कटॉप और मोबाइल के लिए एक सिक्योरिटी सॉल्यूशन है.

इससे अब आपके कंप्यूटर में कोई मनमानी नहीं कर पाएगा. साइबर कचरा अपने आप साफ हो जाएगा. कोई आपके कंप्यूटर या मोबाइल का ई-डेटा में गड़बड़ नहीं कर पाएगा. यानी अब आपके कंप्यूटर में बाहर की हवा का झोंका आपकी इजाजत या मर्जी के बगैर गंदगी नहीं फैला सकेगा. सरकार ने इस बाबत साइबर सुरक्षा की मजबूत किलेबंदी की है. वो भी बिल्कुल मुफ्त. आपको बस इस वेबसाइट www.cyberswachhtakendra.gov.in पर जाकर साइबर सुरक्षा के आइकन पर क्लिक करना है.

आईटी मंत्रालय ने तीन ऐसे तोहफे आम जनता तो दिये हैं जिनसे डेस्क टॉप कंप्यूटर, लैपटॉप और मोबाइल को साइबर सुरक्षा दी जा सकेगी. नेशनल साइबर कोआर्डिनेशन सेंटर इस साल जून तक पूरी तरह काम करने लगेंगे.

आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद के मुताबिक बैंकों, सरकारी एजेंसियों के साथ-साथ आम जनता को भी इसका फायदा मिलेगा. आईटी मंत्रालय की वेबसाइट www.cyberswachhtakendra.gov.in जाकर क्लिक करना है. इससे आपके कंप्यूटर या लैपटॉप का आईपी एड्रेस सेंटर पर रजिस्टर्ड हो जाएगा. जैसे ही आपके हार्डवेयर में कोई छेड़छाड़ कोई वायरस आएगा फौरन अलर्ट आ जाएगा. साथ ही उसकी रेमेडी यानी उपाय भी.

साइबर सुरक्षा के लिए तीन प्रोग्राम- यूएसबी प्रतिरोध (USB Pratirodh),ऐप संविद (AppSamvid) और मोबाइल सुरक्षा के लिए M-कवच (M-Kavach)लॉन्च किए गए हैं. यानी साइबर सुरक्षा के साथ साथ साइबर स्वच्छता भी. राष्ट्रीय स्वच्छता अभियान अब आपके कंप्यूटर में भी झाड़ू लगाने को तैयार है. वैसी वाली सफाई नहीं ऐसी वाली सफाई.

USB Pratirodh एक्सटरनल USB स्टोरेज डिवाइसेस के अनाधिकृत प्रयोग को नियंत्रित करेगा वहीं App Samvid यूजर्स के डेस्कटॉप को संदेहास्पद ऐप्स से बचा के रखेगा. इसके अलावा M-Kavach आपके मोबाइल को सुरक्षित रखने में सहायक होगा.

About Cyber Swachhta Kendra

  • The centre mission is to create a secure cyber space by detecting botnet infections in India and to notify, enable cleaning and securing systems of end users so as to prevent further infections.
  • It is being operated by the Indian Computer Emergency Response Team (CERT-In) under provisions of Section 70B of the Information Technology (IT) Act, 2000.
  • The centre complies with the objectives of the National Cyber Security Policy, 2013 which aims at creating a secure cyber eco-system in the country.
  • It operates in close coordination and collaboration with Internet Service Providers (ISPs), academia, banks and Product and Antivirus companies.

Botnet: It is a network of private computers infected with malicious software and controlled as a group without the owners’ knowledge. Such infected computer is referred to as a zombie. It is used to steal data, send spam. Botnet is a combination of the words robot and network.The popular attacks that happen these days using botnets are called the Distributed Detail of Service (DDOS) attacks. Malware: It is malicious software which is specifically designed to disrupt, damage, or gain authorized access to a computer system. It is an umbrella term used to refer to a variety of forms of hostile or intrusive malicious softwares including computer viruses, worms, trojan horses, spyware, ransomware, adware, scareware etc.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *